सर्वांगासन (शोल्डर स्टैंड): योग की गहरी महत्वपूर्णता और फायदे

सर्वांगासन (शोल्डर स्टैंड) – स्वास्थ्य और शांति का आधार

सर्वांगासन या शोल्डर स्टैंड एक प्रमुख योगासन है जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने में मदद करता है। यह आसन एक प्रकार की शीर्षासन (हेडस्टैंड) होता है, जिसमें आपके पूरे शरीर का वजन सिर पर आता है। सर्वांगासन का नाम ‘सर्व’ और ‘अंग’ से मिलकर बना है, जो कि सम्पूर्ण शरीर को सम्मिलित करने का संकेत करता है। इसका निर्वाचन आपके सर्वांग (सम्पूर्ण शरीर) को एक एकाग्र मानसिकता और ताजगी के साथ जोड़ता है।

सर्वांगासन की प्रक्रिया:

  1. पहले आपको योगमाट के ऊपर लेट जाना होता है। अपने पैरों को मिलाकर तंग करें और हाथों को शरीर के पास रखें।
  2. फिर अपने हाथों का समर्पण करें और अपने कमर को समथर रूप से सड़कर लें। आपकी कूल्हों के नीचे कुछ कपड़े या एक योग ब्लॉक डाल सकते हैं, ताकि आपकी पूरी कमर सहर्ष समय उच्च रहे।
  3. अब अपने पैरों को आसमान की ओर उठाएं, जब तक आपके पूरे शरीर का वजन सिर पर न आए। स्थिति को स्थिर रखने के लिए अपने हाथों की सहायता लें।
  4. धीरे-धीरे अपने पैरों को आसमान की ओर उठाते जाएं और आकार बनाएं जैसे कि आप एक सीधा लाइन में हों। अपने कानों को अपनी कंधों के पास बंद करें।
  5. सर्वांगासन में ठहरें, अपनी सांसें धीरे-धीरे लो और अपने शरीर को ध्यान में रखें।
  6. आसन को स्थिति में बनाए रखने के बाद, धीरे-धीरे अपने पैरों को ज़मीन पर लाने का प्रयास करें और धीरे-धीरे अपने हाथों को नीचे ले आएं।
  7. आसन को छोड़ने के बाद, आराम से लेट जाएं और धीरे-धीरे शांति की आत्मा का आनंद लें।

सर्वांगासन के फायदे:

  1. शारीरिक स्वास्थ्य: सर्वांगासन पूरे शरीर को संतुलित रूप से काम करने का अवसर प्रदान करता है, जिससे शरीर की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और कमर को समथर बनाता है।
  2. मानसिक शांति: योगासन का अभ्यास करने से मानसिक चिंता और तनाव कम होता है, जिससे मानसिक शांति बनी रहती है।
  3. थायरॉइड के लिए लाभकारी: सर्वांगासन थायरॉइड के रोगियों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है, क्योंकि यह थायरॉइड की सक्रियता को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  4. सिरदर्द का उपचार: यह आसन सिरदर्द को कम करने में मदद कर सकता है, क्योंकि यह सिर के रक्त संचालन को बेहतर बनाता है।
  5. सर्दियोवास्क्युलर स्वास्थ्य: सर्वांगासन दिल की सेहत को बेहतर बनाता है, क्योंकि यह दिल के रक्त प्रवाह को बढ़ावा देता है।

सर्वांगासन का अभ्यास सावधानी से करना चाहिए, और यदि आप पहले कभी नहीं किया है, तो योग गुरु की मार्गदर्शन में इसका अभ्यास करें। योग अभ्यास से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेना भी महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से यदि आपके पास किसी प्रकार की गंभीर स्वास्थ्य समस्या हो।

सर्वांगासन एक शक्तिशाली योग प्रक्रिया है जो शरीर और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकती है। इसका नियमित अभ्यास करने से आप अपने जीवन को स्वस्थ, सुखमय, और शांत बना सकते हैं।

Leave a Comment